Zeenat Ki Sunnatein Aur Adaab | ज़ीनत की सुन्नतें और आदाब


Zeenat Ki Sunnatein Aur Adaab ज़ीनत की सुन्नतें और आदाब Zeenat ki sunnat or adaab in hindi :  अस्सलामु अलैकुम वरहमतुल्लाह वबरकाताहु हमारे प्यारे इस्लामी भाइयों और बहनो Duanamaz.com हमेसा आपके लिए इस्लामिक जानकारी दुआ सूरह वगैरह लेकर आते रहते है इसी तरह आज भी हमने आपके लिए ज़ीनत की सुन्नतें और उसके आदाब के बारे में आपको बतायंगे जो की हमारे इस्लामी कल्चर में बहुत ही खास है ज़ीनत को इंग्लिश भासा में फैशनएबल भी बोल सकते है यानी fashion

Zeenat Ki Sunnatein Aur Adaab

यहाँ हम ज़ीनत की सुन्नत और उसके आदाब के बारे में बातएंगे ताकि ताकि हमारे इस्लामी भाई और इस्लामी बहनो को मालूम हो की कौन सी ज़ीनत बमुताबिक है सुन्नत है और कौन सी ज़ीनत सुन्नत का दायरा तोड़ कर फिरंगी फैशन के अँधेरे गड्ढे में जा पड़ती है और दुनिया और तबाही का सबब बनती है |

आज की हमारे फैशनेबल भाई और बहने जैल की हदीसे पाक को पढ़ें और ख़ौफ़े खुदा से लरजे और अपनी इस्लाह की फिक्र करें की कही फैशन परस्ती के आफत में गिरफ्तार हो कर कहरे कहहार और गजबे जब्बार का शिकार न हो जाए चुनाचे हर मोमिन इन कहरो से बचें |

फैशन परस्तों का खौफनाक अंजाम

मदीने के सुल्तान ए नबी आखीरुजमान महबूबे रहमान SAW का फरमाने आलिशान है की मैंने कुछ लोग ऐसे देखे जिनकी जबाने आग की कैंचियों से काटी जा रही थी मैंने इस्तिफ़सार किया ये कौन है तो मुझे बताया गया ये वो लोग है जो नाजाइज़ चींजों से ज़ीनत हासिल करते थे निज मैंने वहां एक गड्ढा भी मुलाईहीजा फ़रमाया जिसमे से चींख पुकार की आवांजें बहुत जोर जोर से आ रही थी मेरे दरयाफ्त करने पर बताया गया ये वो औरतें है जो नाजाइज़ आशिया के जरिये जीनत किया करती थी (शार्हुसूदर)

इस्लाम में मर्दो को लॉकिट पहनना गुनाह है |

हमारे इस्लामी भाइयों लरज जाओ काँप उठो और घबरा कर अल्लाह से माफ़ी मांग लो फैशन परस्ती से तौबा करलो देखो तो सही अल्लाह फैशन परस्तों पर किस कदर ग़ज़बनाक होता है और उनके लिए मरने के बाद आलमें बरजख में उसने कैसी खउफनाक सजा रक्खी है|

ऐ दिन का दर्द रखने वालो चंद लम्हो के लिए आँखें बंद करके तसव्वुर तो करो की फैशन परस्तों का अंजाम किस कदर भयानक है सोंचिये हमारे भाइयों और बहने अगर हमारे जबान में जरा सी छालें पड़ जाते है तो हम अपना चैनो सुकून खो देते है वैसे में अगर हमारे जबान को आग के कैंचियों से काटा जायगा तब हम कैसे बर्दास्त करेंगे तो दोस्तों अभी वक़्त है हमारे पास की हम अपने गुनाहो से तौबा करलें और दीने इस्लाम पर चलें |

Must Read:-


Leave a Reply

Your email address will not be published.