Home Islamic Malumaat Aqiqah kaise kare | अक़ीक़ा करने का सुन्नत तरीका

Aqiqah kaise kare | अक़ीक़ा करने का सुन्नत तरीका

0
898

Aqiqah kaise kare

नाजरीन मैं आपको बता दूँ की आपके घर में लड़का या लड़की पैदा होतो बेहतर है की सातवें दिन उसका नाम रख दे और अक़ीक़ा Aqiqah कर दें अक़ीक़ा aqeeqah कर देने से बच्चे की सब अला बला दूर हो जाती है और आफतों से हिफाजत रहती है |

qurbani ki dua in hindi | क़ुरबानी की दुआ हिंदी में

और अकीके aqiqa का तरीका यह है की अगर लड़का हो तो दो बकरा या दो भेड़ और वहीं लड़की हो तो एक बकरा या एक भेड़ जिबह करें या क़ुरबानी की गाय में लड़के के वास्ते दो हिस्से और लड़की के वास्ते एक हिस्सा ले ले और सर के बाल मुंडा दें और बाल के वजन के बराबर चांदी या सोना टोल कर गरीबों में खैरात कर दे

अक़ीक़ा करने का इस्लामिक तरीका (aqeeqah kaise karen)

अगर आप सांतवें दिन अक़ीक़ा (aqiqah) नहीं कर सके तो तो जब करे सातवें दिन करें सातवें दिन करना बेहतर है और इसका तरीका यह है की जिस दिन बच्चा पैदा हो उसके एक दिन पहले अक़ीक़ा कर दें यानि अगर जुमा को पैदा हुआ हो तो जुमेरात को कर दें और अगर जुमेरात को पैदा हो तो बुध को करें या आप चाहें जिंदगी में कभी भी कर सकतें है इस में कोई रूल नियम नहीं है लेकिन सातवें दिन करना बेहतर होगा |

islamic baby girl names from quran in hindi

और यह कायदा है की जिस वक्त बच्चे के सर पर उस्तरा रखा जाये और नाइ मुंडना शुरू कर दे तुरंत उसी वक्त बकरी जिबह हो यह बिलकुल बेकार की राय है शरीयत से सब जायज है चाहे सर मूँड़ने के बाद जीभा करे या जीभा करके तब सर मुंडे बे वजह ऐसी बाते गढ़ लेना बुरी बात है

you also read:- Chand dekhne ki dua | चाँद दखने की दुआ और उसकी फजीलत

और साथ ही ये भी जान लें की जिस जानवर की क़ुरबानी जायज नहीं उसकी अक़ीक़ा भी ठीक नहीं और जिसकी क़ुरबानी ठीक है उसका अक़ीक़ा भी ठीक है अक़ीक़ा का गोस्त चाहे कच्चा तकसीम करे चाहे पका कर के बांटे चाहे दावत करके खिलाये सब ठीक है अक़ीक़ा का गोश्त माँ बाप ,दादा दादी नाना नानी वगैरा सब खाना ठीक है 

Dua for aqiqah in english

Allahumma Hazihi Aqqeeqatu (yahan par jiske naam se aqiqah hai uska naam len) Damuha bi Damihi, Wa Lahmuha bi Lahmihi, Wa Adhmuha bi Adhmihi, Wa Jilduha bi Jildihi wa Sha’ruha bi Sha rihi

अकीके में किये गए जानवर के खाल का क्या हुक्म है

अकीके में किये गए जानवर का भी वही हुक्म है जो इसके के गोस्त और इसके खाल का भी वही हुक्म है जो क़ुर्बानी या बकरीद में होता है बिलकुल उसी तरह अकीके में जिबह किये गए जानवर का भी होता है चाहे फिर वो कोई सा भी जानवर हो भेड़ बकरी ऊंट या फिर गाये |

निचे दिए गए लिंक को भी जरूर पढ़ें

नाज़रीन अगर आपको ये इनफार्मेशन अच्छा लगा हो तो सदका ए जारिया की नियत से ज्यादा से ज्यादा शेयर करें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here