Home Ramzan Mubarak Ramzan ka chand | रमजान का चाँद देखने की फ़ज़ीलत

Ramzan ka chand | रमजान का चाँद देखने की फ़ज़ीलत

मेरे प्यारे इस्लामिक भाइयो और बहनो अस्सलामो अलैकुम आज हम इस पोस्ट में बात करेंगें Ramzan ka chand के बारे में और बताएंगें मुसलमानो को चाँद क्यू देखना चाहिए चाँद देख कर रोज़ा क्यू रखना चाहिए चाँद देखने की फ़ज़ीलत क्या है इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़े और दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें |

जब भी नया चाँद देखें तो इस प्यारी और छोटी सी चाँद देखने की दुआ को पढ़कर उस चाँद को देखिये यक़ीनन हदीस शरीफ में दर्ज इस नया चाँद देखने की दुआ को पढ़ने की बरकत से हर महीने का चाँद हमारे लिए खुशियां लेकर आएगा.और इससे देखने का भी सवाब हासिल होगा इंशा अल्लाह और महीने शुरू होने के साथ ही इस दुआ के ज़रिये खूब सवाब भी कमाए न जाने कौनसी सुन्नत पर अमल हमें जन्नत का हक़दार बना दे |

ramzan ka chand

Ramzan ka chand Dekhne ki fazilat

इस्लामिक कलेण्डर के मुताबिक नवां महीना रमजान का पाक महीना होता है जिसे दुनिया भर के मुसलमान चाँद देख कर रखा करते है रोजा हमारे बिमारियों का इलाज़ भी है और यही रोज़ा रोजदारों को कयामत के दिन उनके सामने ढाल बन कर खड़ा रहेगा और जो शख्स रमजान के पाक महीने में पूरा रोजा रखता हो और पांचो वक्त नमाज़ पढता हो जकात निकालता हो गरीबो को खाना खिलाता हो और मदरसों में पढ़ने वालो के ऊपर पैसा खर्च करता हो उस शख्स को जहनुम में जाने से बचाएगा | रमजान में हर मुसलमान पर रोजा रखना फ़र्ज़ है ठीक उसी तरह जैसे पांच वक़्तों की नमाज़ है |

हज़रत अली रदियल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के रसूल ए अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम जब रमजान का चाँद देखते तो क़िबला के तरफ रुख करके ये दुआ पढ़ते ऐ अल्लाह इस चाँद को हमारे ऊपर अम्नो ईमान और सलामती और इस्लाम और आफ़ियत वाला फरमा ऐ चाँद हमारा रब और तेरा रब सिर्फ और सिर्फ अल्लाह ही है इस्लाम के बहुत से अहकाम चाँद के देखने पर बनती है जैसा के बकराईद या हज़ और तमाम चीजे है |

निचे दिए गए लिंक को भी जरूर पढ़ें |

अगर आप सरकारी योजना से सम्बंधित जानकारी लेना चाहते है तो आप इस लिंक पर क्लीक करें:- click here

कैसी लगी आपको ये इस्लामिक इनफार्मेशन आप हमें comment करके जरूर बताएं और इसे शेयर करना बिल्कुल न भूलें अल्लाह हर मुसलमान की जान ओ माल की हिफाजत फरमा |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version