Home Islamic Malumaat Gyarvi Sharif kyon manaya jata hai – ग्यारवी शरीफ कब मनाया जाता...

Gyarvi Sharif kyon manaya jata hai – ग्यारवी शरीफ कब मनाया जाता है

अस्सलामु अलैकुम दोस्तों आज इस पोस्ट के जरिये मैं आप सभी मुसलमानो भाइयो और बहनो के लिए लेकर आया हु Gyarvi Sharif ये मुसलमानो का festival है Gyarvi Sharif क्यों मनाया जाता है और किनके नाम से मनाया जाता है ग्यारवी शरीफ की पूरी जानकारी आपको यहाँ मिलेगी इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़ें

Gyarvi Sharif kyu manaya jata hai

ग्यारवी शरीफ क्यों मनाया जाता है ग्यारहवीं शरीफ का पर्व सारी पर्बों में से एक है इस्लामिक हजरत अब्दुल क़ादिर जीलानी के याद में मनाया जाता है उनका राज्य उस समय के गीलान शहर में हुआ था जोकि वर्तमान में ईरान में है। ऐसा माना जाता है कि हजरत अब्दुल क़ादिर जीलानी पैगंबर हज़रत मोहम्मद s.a.w साहब के खानदान से थें। वह एक अच्छे विचारों वाले वली थे। 

ग्यारहवीं शरीफ सुन्नी मुस्लिम धर्म द्वारा मनाये जाने वाला एक बहुत बड़ा पर्व है। जिसे इस्लाम के जानकारों और एक महान हज़रत अब्दुल क़ादिर जीलानी के याद में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि वह पैगंबर  हज़रत मोहम्मद s.a.w के खानदान से थे क्योंकि उनकी माँ इमाम हुसैन की खानदान से थी जोकि पैगंबर हज़रत मोहम्मद s.a.w के पोते थे। उन्हें इस्लाम को बुलंद करने वाले शख्स के रुप में भी जाना जाता है

अपने इल्म के जरिये बहुत से लोगो को इस्लाम के बारे में जानकारी दिए ।इसके साथ ही abdul qadir जिलानी साहब का जन्म 17 मार्च 1078 ईस्वी को गीलान राज्य में हुआ था, जोकि आज के समय ईरान में मौजूद है और उनके नाम में मौजूद जीलानी उनके जन्मस्थल को दर्शाता है। हर साल रमादान के पहले दिन को उनके जन्मदिन के रुप में मनाया जाता है और हर साल के रबी अल थानी के 11वें दिन को ग्यारहवीं शरीफ के त्योहार के रुप में मनाया जाता है।

Gyarvi Sharif 

ग्यारहवीं शरीफ का यह त्योहार पूरी दुनिया में मनाया जाता है। वास्तव में एक प्रकार से यह उनके द्वारा समाज के भलाई और विकास के कार्यों के रूप में मनाया जाता है है। जो इस बात को दर्शाती है कि भले ही हजरत अब्दुल क़ादिर जीलानी हमारे बीच ना हो लेकिन उनके इस्लाम के बारे बताये हुए को अपनाकर हम समाज के विकास में एक खास योगदान दे सकते है।

Abdul Qadir Gilani ke khas bat |

हज़रत अब्दुल कादिर जिलानी शाहब के खास बात ये है के ये गरीबो खाना खिलाया करते थे अपनी जिंदगी दूसरे को खाना खिलाने लगा दी और बहुत ही बड़ी बड़ी इनके जिंदगी का वाक़िया है इनके रौजे मुबारक पर आज भी लंगर चलता है कुछ लोगो का कहना है के आप भूखे रहते और दूसरे को खिलाते थे

निचे दिए गए लिंक को भी जरूर पढ़ें

अगर आप सरकारी योजना के बारे जानना चाहते है तो दिए गए लिंक पर क्लीक करे:- Click Here

 

दोस्तों कैसी लगी आपको ये इस्लामिक जानकारी अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो निचे दिए गए शेयर बटन पर क्लिक कर के इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें अल्लाह हाफ़िज़

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version