Miswak Karne Ki Fazilat Aur Faayde | मिस्वाक करने की फ़ज़ीलत और फायदे हिंदी

Miswak Karne Ki Fazilat Aur Faayde मिस्वाक करने की फ़ज़ीलत और फायदे हिंदी Miswak Karne Ki Fazilat In Hindi मिस्वाक करने की फ़ज़ीलत : अस्सलामु अलैकुम वरहमतुल्लाह वबरकाताहु हमारे प्यारे इस्लामी भाई और बहने आज हम आपलोगो को मिस्वाक करने के फायदे और उसके फ़ज़ीलत के बारे में बतायंगे और इन्शाह अल्लाह अमल भी करेंगे और हम ये भी जानेगे की क्या क्या फायदे है मिस्वाक करने के और अगर आप इसी तरह की इस्लामिक जानकारी जानना चाहते है तो हमारे Duanamaz.com जा कर हासिल कर सकते हैं | अगर आप सरकारी जॉब की तैयारी कर रहे है तो Sarkarijobseva.com पर Click करें |

Miswak karne ki fazilat

Miswak Karne Ki Fazilat Aur Faayde

बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम

हजरत अबू हुरैरा रजि0 अल्लाहो तआला अन्हा से रिवायत है की रसूल अल्लाह SAW ने फ़रमाया है की अगर मई अपने उम्मत पर इसबात का मुश्किल ना जानता तो हर मुसलमान को ये फरमान देता की वो हर नमाज़ के पहले मिस्वाक करें                                                                                                               (बुखारी व मुस्लिम )

इस हदीस पाक का मफहूम ये है कि अगर मुझे इस बात का डर खौफ़ नहीं होता कि मेरी उम्मत बहुत बड़ी दुशवारी में पड़ जाएगी तो मैं हर नमाज़ के वक़्त मिस्वाक को करना ज़रूरी करार देता |

चूंकि हमारे प्यारे नबी (S.A.W) उम्मतों के लिए रहमत बन कर आए इसलिए सरकार दो आलम (S.A.W) ने मिस्वाक को फ़र्ज़ का ओहदा दर्जा नहीं दिया क्यूंकि अगर ये फ़र्ज़ होता तो मुसलमान तंगी और काहिली की वजह से मिस्वाक को वजह बना कर नमाज़ यानि फ़र्ज़ की पाबन्दी नहीं कर पाते और गुनाह के हकदार होते इसलिए इसको मुस्तहब ही रखा गया है |

मिस्वाक करने की फजीलत बहुत से हदीसों में भी आई है और इसकी अहमियत का अंदाज़ा इस बात इस बात से भी लगाया जा सकता है कि ये नमाज़ का सवाब को बढ़ा देती है फ़रमाया गया है की जिस नमाज़ को मिस्वाक करके पढ़ी जाए तो वो बगैर मिस्वाक के पढ़ी जाने वाली नमाज़ से सत्तर दरजे अफज़ल व बेहतर है |

मिस्वाक करने के बहुत सारे फायदे

 Miswak Karne ke न सिर्फ सवाब है बल्कि इसके शारीरिक बहुत सारे फायदे भी है जिसके बारे में हमने निचे के लेख में कुछ बयान किये हैं जिनको आप ध्यान से पढ़ें और इस पर अमल भी करें और अपने प्यारे नबी (S.A.W) के सुन्नत को अपनाएँ |

1.मिस्वाक करने से मुंह में खुसबू पैदा होती है |

2. मिस्वाक करने से याददाश्त मजबूत होती है |

3. मिस्वाक करने से दांतों में सड़न नहीं होती है |

4. मिस्वाक करने से मसूड़े मजबूत होते है |

5. मिस्वाक करने से दांतों में दर्द जैसे बिमारी से राहत मिलती है |

6. मिस्वाक करने से सर में दर्द नहीं होता है |

7. मिस्वाक करने से दांतों में पीला पन नहीं होता है |

8. मिस्वाक करने से आँखों की रौशनी तेज होती है |

9. मिस्वाक करने से हाजमा दुरुस्त रखता है |

10. मिस्वाक करने से भूख ज्यादा लगता है |

इसी तरह और भी बहुत सारे फायदे है मिस्वाक करने के हमारी आप सब से गुजारिस है की आप अपने daily के रूटीन में कम से कम पांच बार मिस्वाक करें और अपने साथ साथ ये सलाह दुसरो को भी जरूर दें |

अगर आपको इसके बारे में और जानना हैं तो Deenibaatein.com Link पर Click करें

Must Read:

1. Azan Ki Ahmiyat Wa Fazilat In Hindi

2. Ayatul Kursi In Hindi | तर्जुमा के साथ आयतल कुर्सी हिंदी…

3. Ghusl ka tarika in Hindi | नहाने का इस्लामिक तरीका हिंदी.

4. Jawal Ka Waqt Kya Hai | जवाल के वक़्त इबादत कियों…

5. Surah (Bayyinah) Lam Yakun Tarjuma Hindi | | सूरह लम यकून…

6 Dua E Qunoot In Hindi

7. Ramadan Ki Barkat Wa Fazilat | रमजान की बरकत व फ़ज़ीलत…

8. Namaz ka Tarika – Namaz ka Tarika हिंदी में

9. Safar Ki Dua in Hindi & Urdu तर्जुमा के साथ

10. DUA E NOOR IN HINDI | दुआ ए नूर हिंदी लेटर…

11. Ramadan Ki Fazilat In Hindi | रमज़ान की फ़ज़ीलत इन हिंदी

 

Leave a Comment