Wazu Ka Tarika  और उसके सुन्नतें और फ़राइज़ Wazu Ka Tarika in hindi नाजरीन ए इकराम एक बार फिर से खैरे मखदम है आप सभी का हमारे Duanamaz.com पर वेबसाइट पर जहाँ हम रोज आपके लिए कुछ इस्लामिक मालूमात लेकर आते रहते है इसी तरह आज हम आपके लिए वजू करने का सही तरीका के बारे में बात करेंगे वजू करने का तरीका सीखना हर मुसलमान के लिए खासा जरुरी है क्योंकि बिना वजू के आपका नमाज़ नहीं होता तो चलिए हम वजू का तरीका के बारे में बात करते है |

wazu ka tarika

 

Wazu Ka Tarika in Hindi

बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम

हदीस शरीफ में : हज़रत अबू हुरैरा रज़ियल लाहु अन्हु से रिवायत है कि हमारे प्यारे नबी (S.A.W) ने फ़रमाया जब तुम में से किसी का वुज़ू टूट जाये या वुज़ू न हो तो अल्लाह तआला उसकी नमाज़ को क़ुबूल नहीं करता जब तक के वो शख्स दुबारा वज़ू न बना लें |

कुरआन पाक में अल्लाह तआला ने इरशाद फ़रमाया है कि ऐ ईमान वालो ! जब तुम नमाज़ के लिए खड़े हो तो चाहिए की अपने मुंह और हांथो को कुहनियों तक धो लें सर पर मसह कर लें और पैर टखनो तक धो लें |

वजू करने के दरमियान कुछ चीजों का धुलना फ़र्ज़ है और कुछ चींजों का धुलना सुन्नत माना गया है तो चलिए इस बात को जानते है की क्या धुलना सुन्नत है और क्या फ़र्ज़ है |

वजू करने के दरमियान चार फ़र्ज़ है |

चेहरे को अच्छे तरह से धोना  

 पेशानी के बालों से जहाँ तक बाल उगने की जगह है ठोड़ी के नीचे तक एक कान की लौ से दुसरे कान की लौ तक

 

दोनों हांथो को कुहनियों समेत धोना 

इस तरह से धोये की पूरी कुहनियां अच्छे से भीग जाए

 

चौथाई तक सर का करना मसह 

अपने टोपी या रुमाल सर पर पहन रखा है उसे उतार लें और अपने सर के चौथाई हिस्से तक मसा करें |

 

टखनों तक अपने पैरों को धुलें

अपने पैरों को इस तरह धुलें की निचे का हिस्सा अच्छे से साफ़ हो जाये कही खुश्क यानि सूखा न रह जाए

Wazu ka tarikaa

Wazu ka tarika

दाढ़ी अगर हलकी और छोटी हो तो वज़ू में अंदरूनी खाल तक पानी पहुँचाना बहुत ज़रूरी है और अगर दाढ़ी बड़ी और  घनी हो तो सिर्फ चेहरे के दायरे में दाढ़ी पर जो बाल मौजूद है बस इन को ही धो लेना काफी माना गया है |

अब वज़ू की सुन्नतें जाने

वज़ू में फ़र्ज़ तो चार चीज़ ही है और बाक़ी काम फ़र्ज़ तो नहीं है सुन्नत है और मुस्तहब ज़रूर है इसलिए यहाँ पर वज़ू की सुन्नतों के बारे में ज़िक्र किया जाता है |

1. पहला नियत करना

2. दूसरा बिस्मिल्लाह पढ़ना

3. तीसरा मिस्वाक करना

मिस्वाक करने की ताकीद और उसकी फ़ज़ीलत बहुत सी हदीसों में भी आई है एक रिवायत में है कि अगर मेरी उम्मत पर दुश्वार न होता तो मै हर वुजू के वक़्त उन्हें मिस्वाक का हुक्म देता ”  लेकिन अगर मिस्वाक न हो पाए तो सिर्फ उँगलियां ही इस्तेमाल कर ले |

वजू का सही तरीका हिंदी भाषा में

1. सबसे पहले तो पाकि हासिल करने और सवाब पाने की नियत करें |
2. फिर बिस्मिल्लाह पढ़ कर तीन बार दोनों हांथो को कलाइयों धोएं |
3. फिर तीन मर्तबा कुल्ली करें अपने दांतो को उँगलियों से दातुन करें |
4. फिर तीन बार नाक में पानी चढ़ाएं और फिर बाए हाँथ से नाक साफ़ करें

5. फिर तीन मर्तबा पेशानी के बालों से लेकर ठोड़ी तक के निचे मुंह को धोएं याद रहे इस दरमियान कानो तक की लौ तक कोई जगह सूखा न रह जाए अगर दाढ़ी है तो खिलाल करें |

6. फिर दोनों हांथो को पहले दाए हाँथ को कोहनी तक इस तरह धोएं फिर बाएं हांथो को कोहनी तक धोएं
फिर नया पानी लेकर अपने दोनों हांथो को भिगो कर पुरे सर का मसह करें इस तरह की पेशानी के बालों से दोनों हांथों की तीन उँगलियों को फेरते हुवे गुद्दी तक ले जाएँ और फिर गुद्दी से हथेलियों को फेरते हुए वापस लाये फिर शहादत की ऊँगली से कान के अंदुरुनी हिस्से और अंगूठे के पेट से कान के ऊपरी हिस्सा पर और उँगलियों के पुस्ट से गर्दन का मसह करें |
7. फिर तीन मर्तबा दोनों पांव को इस तरह धोंये पहले दायां फिर बायां पांव को टखने तक अपने बाए हांथो से धोएं और उँगलियों का खिलाल करें |
अगर आपको इसके बारे में और जानना हैं तो Deenibaatein.com Link पर Click करें
यह तरीका जो बयान हुआ है उसमें कुछ वुजू के फराइज है कुछ सुन्नतें और कुछ मुस्तहब काम है |
इन्हे भी जरूर पढ़ें|

7. Ramadan Ki Fazilat In Hindi | रमज़ान की फ़ज़ीलत इन हिंदी

 

8. Quraan Majid Padhne Ki Fazilat | क़ुरआन शरीफ पढ़ने की फ़ज़ीलत

 

9. Ramadan Ki Fazilat In Hindi | रमज़ान की फ़ज़ीलत इन हिंदी

 

10. Namaz ka Tarika – Namaz ka Tarika हिंदी में

 

11. Ayatul Kursi In Hindi | तर्जुमा के साथ आयतल कुर्सी हिंदी में

 

12. Dua E Qunoot In Hindi

 

13. Fatiha ka tarika in Hindi यहाँ से सीखें

 

14. Safar Ki Dua in Hindi & Urdu तर्जुमा के साथ

 

15. Ghusl ka tarika in Hindi | नहाने का इस्लामिक तरीका हिंदी में

नाजरीन अगर ये Information आपको अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना बिलकुल भी न भूलें अल्लाह तआला हर मोमिन की हिफाजत फरमाए

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here