Home Namaz Namaz Padhne Ki Fazilat | नमाज़ पढ़ने की फ़ज़ीलत हिंदी में

Namaz Padhne Ki Fazilat | नमाज़ पढ़ने की फ़ज़ीलत हिंदी में

0
758
namaz padhne ki fazilat
namaz padhne ki fazilat

अस्सलामु अलैकुम वरहमतुल्लाह वबरकाताहु हमारे प्यारे इस्लामिक भाइयो और बहनो आज हम आपसे नमाज़ Namaz Padhne Ki Fazilat की फ़ज़ाइल के बारे में बात करेंगे की हम चंद मिनट लगने वाली कामो को नहीं करते है यानी के नमाज़ पढ़ने में कुछ मिनट लगते है जिससे बहुत से मोमिन और मोमिना नहीं कर पाते है नमाज़ अल्लाह तआला के तरफ से दी हुवी बहुत ही अच्छी नेमत है जिससे हर मुसलमान को कुबूल और अमल करना चाहिए जिन्हे नमाज़ पढ़ने का तरीका नमाज़ पढ़ना नहीं आता है वो इस link पर Namaz ka tarika In Hindi Click कर के जरूर सीखें |

Namaz Padhne ki fazilat In Hindi

हमारे प्यारे इस्लामी भाई हर आकिल व् बालिग़ भाई और बहने पर रोजाना पांच वक़्त नमाज़ फ़र्ज़ है नमाज़ को फ़र्ज़ होने पर जो जो शख्स इंकार करे वो यक़ीनन काफिर है एक भी नमाज़ जान बूझकर वक़्त गुजार कर पढ़ना यानी क़ज़ा करना कबीरा गुनाह है बद किस्मती से आज मुसलमानो को नमाज़ का बिल्कुलभी परवाह नहीं रही हमारी मस्जिदे वीरान रहती है आइये नमाज़ की फ़ज़ाइल को पढ़िए और समझिये देखिये अल्लाह तआला ने हम पर नमाज़ फ़र्ज़ करके खुद हम पर एक अहसाने करीम अता फ़रमाया है |

Namaz Padhne ki Fazilat: हम थोड़ी सी मेहनत करें नमाज़ पढ़ें तो अल्लाह तआला हमें कितना जबरजस्त अजरो सवाब मरहमत आता फरमाता है अल्लाह तआला ने क़ुरआने करीम में जा बजा नमाज़ की ताकीद फ़रमाई है इरशाद किया है मेरी याद के लिए नमाज़ हमेशा कायम रखें (कंजुल ईमान) अल्लाह तआला एक दुसरे मकाम पर इरशाद फरमाता है बेशक नमाज़ मुसलमानो पर पांच वक़्तों का बांधा हुआ फ़र्ज़ है| (कंजुल ईमान)

दोस्तों आज कल हम इंसानो ने बहुत तरक्की कर ली है और आज कल अवकात जाना मालूम करना अब कोई मुश्किल बात नहीं है वक़्त मालूम करने के लिए हमारे लिए घड़ियाँ मौजूद है पहले के लोग सूरज और चाँद देख कर वक़्त (Time) पता करते थे नमाज़ो के लिए तो नाज़रीन हमारे लिए और भी आसान हो गया है नमाज़ को कायम करना पढ़ना हमारा हर मोमिन से दरखास्त है गुजारिश नमाज़ कायम करें मस्जिदों को वीरान न बनायें |

नमाज़ को अपने वक़्त में ही पढ़ें

सय्य्दना अबू ददआ रजिo अन्हा से रिवायत है की अल्लाह की बारगाह में सब बन्दों के अजमत वाले लोग वो है जो सूरज और चाँद का ध्यान रखता है साथियों ने कहा अबू ददआ रजिo अन्हा क्या इससे मुआज्जिन मुराद है? उन्होंने फ़रमाया नहीं बल्कि इससे मुराद वो मुसलमान है जो नमाज़ के वक़्तों का ख्याल रखते है| (तम्बीहुल ग़ाफ़िलिन)

उम्मुल मोमिनीन सय्यदतुना आइशा सिद्दीकी रजिo से रिवायत है की ताजदारे मदीना (SAW) इरशाद फरमाते है अल्लाह इरशाद फरमाता है अगर बंदा वक़्त पर नमाज़ कायम रखें तो मेरे बन्दे का जिम्मेए करम अहद है की उस शख्स को अजाब न दूंगा और बे हिसाब जन्नत में दाखिल कर दूंगा |

इन्हे भी जरूर पढ़ें

1. Aurton Ki Namaz Padhne Ka Sahi Tareeqa In Hindi

2. Salaam Karne Ki Sunnaten Aur Adaab

3. Pani Pine Ki Sunnaten Aur Adaab In Hindi

4. Darood Sharif Padhne Ki Fazilat | दरूद शरीफ के फजाइल

5. Quraan Majid Padhne Ki Fazilat | क़ुरआन शरीफ पढ़ने की फ़ज़ीलत

6. Ramadan Ki Fazilat In Hindi | रमज़ान की फ़ज़ीलत इन हिंदी

7. Nabi (S.A.W) Ka Farman | नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का फरमान

8. Dua For Coronavirus in Hindi | कोरोना वाइरस से महफूज़ रहने की दुआ हिंदी…

हजरात अगर ये Information आपको पसंद आया हो तो इस Information को शेयर जरूर करें अल्लाह हर मोमिन का हिफाजत फरमाएं (अल्लाह हाफ़िज़)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here