Ramjan taraweeh sehri Iftar ki dua in hindi

अस्सालमो अलयकुम प्यारे भाईयो और बहनो सबसे पहले माहे रमजान ramjan की बहुत बहुत मुबारकबाद aaj Ramjan taraweeh sehri iftar ki dua jaanege आप सभी लोगो को अगर आप रमजान ramjan roja इतिकाफ taraweeh dua namaz रमजान calendar image और रमजान से releted सभी जानकारी चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े

Ramjan Taraweeh itikaf

Ramjan की एक खास इबादत itikaf है अल्लाह के प्यारे रसूल फ़रमाते है जिसने भी रमज़ान में दस दिन का itikaf कर लिया तो वह दो है हज औंर उमरे किए बराबर मन जायेगा हज़रत अबू सईद ख़ुदरी रदियल्लाहो अल्हो का बयान है एक बार सरकार ने एक से 20 रमजान तक एतेकाफ़ करने के बाद फरमाया मैंने शबे कद्र की तलाश में रमज़ान के पहले 10 दिनो में एतेकाफ़ किया फिर दूसरे अशरे का एतेकाफ़ किया फिर मुझें बताया गया कि शबे कद्र तो आखिरी अशरे में है इसलिए तुम में से जो itikaf करना चाहे कर सकता है इस के बाद सरकार हर साल रमजान Ramjan के आखिरी अशरे का एतेकाफ़ फ़रमाने लगे यानी हेर रमजान का 10 दिन itikaf करने लगे आप को देख कर उम्महातुल मोमिनीन भी itikaf करने लगी उन का यह तरीका सरकार के पर्दा फ़रमाने क बाद भी जारी रहा

Shab-e-jumma ki darood sharif to know more click here

Ramjan ka itikaf ki niyat

Ramjan taraweeh sehri iftar ki dua in hindi

Ramjan ki niyat यूं करे में अल्लाह की रजा के लिए रमज़ान के आखिरी अशरे का itikaf करने की नियत करता हूं इसके अलावा आप जब भी मस्जिद में जाएं तो दाखिल होते वक्त दुआ के बाद एतेकाफ़ की नियत कर ले, जब तक आप इतिकाफ में जितने दिन रहेंगे ज़िक्र व तिलावत करेंगे, आप को itifak उतना ही का सवाब मिलेगा रमज़ान में अक्सर मस्जिदों मे इफ्तारी का इन्तेजाम होता है याद रहे मस्जिद मे खाने पीने, सोने की इजाज़त नहीं इसलिए इफ्तार के लिए मस्जिद जाए तो itifak की नियत itikaf ki niyat कर लिया करे ये नियत करना बहुत जरूरी है और कुछ ज़िक्र व तिलावत , तस्बीह दरूद शरीफ दुआ ए क़ुनूत और भी कोई तिलावत केरलीय करो इतना करने के बाद आप के लिए मस्जिद में roja खोलना खाना पीना अच्छा माना जाएगा अल्लाह ऐसी सभी को तौफीक दे आमीन

Ramjan mei padhne wali dua

Ramjan taraweeh

 

Ramjan का पहला अशरा रहमत का है लिहाजा पहले रोजे से दसवे रोजे तक इस दुआ को कसरत से पढ़ें

अल्लाहुम्मर-हमना या अर हमर-राहिमीन

Ramjan का दूसरा अशरा मग्फिरत का है लिहाजा ग्यारहवै रोज़े से बीसवे रोज़े तक यह दुआ बार-बार पड़े

अल्लाहुम्मग़ फ़िर-लना ज़ुनू बना या रब्बल-आलमीन

Ramjan का तीसरा अशरा जहन्नम से आजादी का है लिहाजा इक्कीसवे रोज आखरी रोजे तक यह दुआ बार-बार पड़े

अल्लाहुम्मा किना अज़ाबन्नारि व अद खिलनल-जन्न-त अ म-अल अबरारि या अज़ीजु या गफ्फ़ार

Taraweeh to know more click here

Sahri mei padhne wali dua

 

या वासीअल फदलि व या वासीअल मग़फि-रति इग्फिर-लना

Ramjan शरीफ में कसरत से चलते फिरते यह दुआ पढ़े

ला इला-ह इलल्लाहु अल्लाहुम्मा नस-तग़-फिरुका व नस-अलु-कल जन्न-त व नउज़ुबि-क मिनन्नार

Roza ke niyat

Ramjan taraweeh sehri iftar ki dua in hindi

बिसौमि गदिन नवयतु मिन शहरे रमज़ान

Iftar ki dua

 

अल्लाहुम्मा इन्नी ल-क सुम्तु व बि-क आमनतु
व अलै-क तवक्कलतु व अला रिजि़्कक़ा अफ्तरतु फ़तक़ब्बल मिन्नी

Ramjan ka chand dekhker padhne wali dua 

अल्लाहुम्मा अहिल्लहु बिल युमनि वल ईमानि वस सलामति वल इस्लामि वत्ताफ़ीकि
लिमा तुहिब्बु व तरदा रब्बी व रब्बु कल्लाह

दोस्तों अगर आपको ये इनफार्मेशन अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें और अगर आपको हमसे कोई इस्लामिक रिलेटेड सवाल पूछ न हो तो ईमेल या कमेंट करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here